Home Motivational story in hindi Best motivational stories in hindi प्रेरणादायक कहानिया

Best motivational stories in hindi प्रेरणादायक कहानिया

by Sonal Shukla
Best motivational stories in hindi

Best Motivational stories in hindi की सीरीज आप का  स्वागत है ,आज के इस motivational story में हम आपको 4  ऐसी motivational and inspirational story बताने वाले है, जिससे आपके जीवन में एक अगल ही लेवल का मोटिवेशनल रहेगा| इस स्टोरी से आपके जीवन में पाजिटिविटी आएगी और आपको जीवन में आगे बढ़ने की मदद मिलेगी और अपने लक्ष्य को हासिल करने में मदद मिलेगी|

Motivational poem in hindi प्रेरणादायक कविताए 

Best motivational story hindi प्रेरणादायक कहानियाँ

Power of subconscious mind hindi अवचेतन मन की शक्ति 

Motivational story 1 ( best motivational stories in hindi)

 एक बार एक किसान था, उसके पास पांच एकड़ जमीन थी और वह उस जमीन पर खेती करता था उसका एक अच्छा परिवार था जिसमे दो लड़के और एक लड़की और उसकी पत्नी थी. वह अपने परिवार के साथ बहुत खुश रहता था उनकी ज़िन्दगी अच्छे से चल रही थी, उनके बच्चे बड़े हो गए थे और उनकी शादी करने का समय आ गया और उस किसान को अपने बड़े पुत्र की शादी  करनी होती है.

किसान के पास काम जमीन होने के कारण वह अपने पुत्र की शादी का पूरा खर्च नहीं उठा पाता है तो वह कुछ पैसे जमींदार से उधार लाता है, और अपने पुत्र की शादी बड़े धूम धाम से करता है घर पर खुशिया का माहुल रहता है.

एक दो साल बाद फिर उस किसान को अपने छोटे पुत्र की शादी करनी पड़ती है, इस बार भी पुरे पैसे नहीं होने के कारण वह जमींदार से पैसे उधार लाता है. क्यों की दोस्तों वह एक किसान था और किसी वर्ष ज्यादा बारिश होती है,कभी काम बारिश होती है इस कारण से किसान ज्यादा पैसा नहीं जूता पाता था.

इस कारण से वह अपने दूसरे बच्चे की शादी के लिए पैसे लिए और  शादी भी बड़ी धूम धाम के साथ की और उसके साथ उसकी लड़की की भी शादी कर दिया और वह बहुत खुश था क्यों की उसने तीनो बच्चो की शादी कर दिया था और हर माँ बाप का यही सपना होता है.

कुछ समय वह बहुत खुश रहे क्यों की अब उनके परिवार में दो नए सदस्य शामिल हुए थे. लेकिन उस किसान का कर्ज बढ़ने के कारण परेशान रहता था और एक दिन उसने फैसला लिया की क्यों नहीं दोनों बच्चो को बुलाकर आधा आधा कर्ज दिया जाए और आधी आधी जमीन बाँट दी जाए.

उसने दोनों पुत्र को बुलाकर सभी बात बता दिया और दोनों को आधी आधी जमींन और कर दिया गया.

किसान की प्रेरणादायक कहानी

 उसमे से एक पुत्र बहुत परेशान हुआ और सोचने लगा इतना कर्जा कैसे चुकाऊंगा और अपने पापा की तरह ही खेती में झूट गया. और हर  समय परेशान रहने के कारण अपनी खेती यानी काम भी अच्छे तरीके से नहीं कर पाता था और हर यह सोचता था की यह कर्ज कैसे चुकेगा और उसका कर्ज बढ़ता गया क्यों की सिर्फ सोचने से तो कर्ज नहीं चूक सकता ना.

वही दूसरा बहुत खुश हुआ वह मन ही मन सोचने लगा की अब मेरे ऊपर जिम्मेदारी आ गई और मुझे अपनी जिम्मेदारी को पूरी तरह निभाना है. उसके मन में यह कभी नहीं आया की इतने पैसे कैसे चुकाएगा बल्कि वह सोचने लगा की में इतने पैसे को एक साल में चूका दूंगा क्यों की मेरे पास डाई एकड़ जमीन है.

और उसने अपने पापा के सारे पुराने तरीके को छोड़ा और अलग तरीके से खेती करने लगा और साथ ही उनके कुए के पानी इतना अच्छा था की उसने शहर में जाकर पानी बेचने वाले से संपर्क कर  कुए का पानी बेचने लगा और ऐसी खेती करने लगा जो तुरंत पैसा दे वह खेत में फल फुल लगाए और सब्जी लगाईं.

उसने दो तीन मजदुर लगाकर उसने बाजार में अपनी ही खेत की सब्जी,फल और बेचने  लगा दिया और उस पुत्र ने एक साल के अंदर ही पूरा पैसा चुका दिया और पांच एकड़ जमीं और खरीद लिया जबकि पहले वाले लड़के को एक एकड़ जमींन बेचना पड़ा.

Moral this motivational story 

दोस्तों यह कहानी मेरे एक दोस्त के परिवार की है और मरे यह कहानी का सिर्फ एक ही उद्देश्य है की जीवन में बहुत सारे अवसर है, जिसको हम अनजाने में छोड़ जाते है और वही पुराना तरीका अपनाते है जो हमारे पूर्वज करते आए है हम कुछ नया करने की कोशिश ही नहीं करते है जिसके चलते हमारी परेशानिया और बढ़ती चली जाती है.

इसलिए आपके पास जो कुछ नहीं है, जैसे भी हालात आपके है उनमे कुछ नया देखने कि कोशिश करो अवसरों को पहचानने की कोशिश करो.

साथ ही यह कहानी हमको यह प्रेरणा भी देती है की मुश्किल हालातो में सिर्फ गम करने से कुछ नहीं होता है. आपको एक्शन लेना ही पड़ेगा और चाहे स्थिति किसी भी हमेशा पॉजिटिव रहो क्यों की यही आपकी सकारात्मक सोच ही आपको हर मुश्किल हालातो से बहार निकालेगी.

Motivational story 2 ( best motivational stories in hindi)

एक बार एक राजा था उसके दो पुत्र थे  एक पुत्र का नाम था अमरसिंह और दूसरे पुत्र का नाम था युवराज. दोनों पुत्रो का अलग अलग स्वभाव था, अमरसिंह कोई नहीं कार्य करने से पहले सोच विचार करता था अर्थात पूरी गहनता के साथ विचार विमर्श करने के बाद ही वह कोई भी कार्य करता था.

वही दूसरी तरफ युवराज जो राजा का दूसरा बैठा था वह कोई भी निर्णय लेने में बिलकुल भी देरी  नहीं करता था,उसके मन में कोई विचार आया या  कोई कार्य करने का मन हुआ वह तुरंत apply कर देता था. इस  कारण से युवराज को कही कार्य में नुक्सान भी हुआ और कही जगह पर हार का सामना भी करना पडा. लेकिन वह हमेशा सोचता था की कुछ सिखने को तो मिला और सपनी ज़िन्दगी का रवैया उसने वैसा ही रखा.

और पहले वाला पुत्र अमरसिंह जो की सोच विचार करता था वह जीवन मे कुछ नया कर ही नहीं पाया क्यों की हम किसी कार्य की गहराई में जायेंगे तो कुछ ना कुछ कमी तो निकल ही आएगी. क्यों की दुनिया में कोई ऐसा काम नहीं जो गलती ना निकल हमे उस गलती को दूर करने के लिए उस काम में जाना ही पड़ता और पूरी मेहनत के साथ दूर करना पड़ता है.

युवराज नए नए कार्य करने के कारण सभी क्षेत्रों में निपुण हो गया वह अब हर कार्य आसानी से कर सकता है.

Motivational story in hindi

एक बार राजा के दरबार में एक प्रतियोग्यता हुई जिसमे दोनों पुत्रो को भाग लेना था, प्रतियोग्यता यह थी की जो पहले जंगल में जाकर पहले शेर का शिकार कर के लाएगा उसे राज्य का राजा घोषित किया जायेगा.

जिसका जैसा स्वभाव था दोनों पुत्र वैसा ही करने लगे पहले वाला सोच में पड़ गया और सोचने लगे की कैसे हो पायेगा,शेर ने मेरे ऊपर अटैक कर दिया तो, पहले इसकी ट्रेनिंग लेनी पड़ेगी मुझे शेरो की सभी बाते जाननी होगी.

वही दूसरा पुत्र तुरंत निकल गया जंगल में अपने सभी सस्त्रो  के साथ और वही शेर का शिकार करने के लिए प्रैक्टिस करने लगा उसे जंगल की हार बात मालुम हुई, उसने जंगल में शेर कहा रहते है वह जाना मतलब उसने जंगल का पूरा अनुभव किया.

और पहले वाला लड़का ट्रैनिग लेता रहा जब तक अमरसिंह की ट्रैनिग पूरी हुई तब तक युवराज शेर का शिकार कर के आ गए थे. क्यों की उन्होंने तुरंत एक्शन लिया और खुद के अनुभव से अनुभव किया और दोस्तों जो आप खुद के द्धारा कर के अनुभव करते है वह दुनिया की कोई ट्रेनिंग अनुभव नहीं करा सकती है.

Moral this motivational story 

दोस्तों यह motivational story हमे तह प्रेरणा देती है जी जीवन में निर्णय लेने में जितना समय लगाओगे उतना ही उलझते जाओगे, इस कारन से निर्णय लेने में देरी नहीं करना चाहिए करना है तो करना है, नहीं तो नहीं करना.

और किसी भी कार्य को करने से पहले पूरी  गहराई में मत जाओ क्यों की अगर आप ऐसा करते है तो आप जीवन में कुछ नहीं कर सकते. हर कार्य में कमी होती है, हर कार्य में समस्या होती है, समस्या हमारे जीवन का हिस्सा है इनसे इंसान को दूर नहीं भागना चाहिए बल्कि इनसे डटकर मुकाबला करना चाहिए.

महान motivational speaker and लेखक brain tracy ने बताया की जिसमे अर्थात जिस व्यक्ति में तुरंत निर्णय लेने की क्षमता नहीं होती है,वह जीवन में कभी भी नया नहीं कर पाते है और नाही ही जीवन में बड़ी सफलता हासिल कर पाते है.

तुरंत निर्णय लेने की ताकत आपको एक मजबूत इंसान बनाती है और यह जीवन में आपको असफलताओ का सामना करना सिखाती है.

Motivational story 3 ( Best motivational stories in hindi )

एक बार एक राजा के राज्य में भुकमरी आ गई थी यानी की महामारी आ गई जिसके कारण राज्य में बहुत सारे लोगो की मर्त्यु हो रही थी, इस बात से राजा और  उसके राज्य वाले लोग बहुत परेशान थे.

उन्होंने राज्य के दरबार में एक सभा बुलवाई और सभी के राह ली गई की ऐसा क्यों हो रहा और राजा से पूछा गया की क्या इसका कोई उपाय है आपके पास जो इस माहमारी को रोक सके. क्यों की इसके कारन बहुत लोगो की मर्त्यु हो रही और बाहत लोग मर चुके, राजा ने जवाब दिया अभी कोई उपाए नहीं और प्रजा  दिलाशा दिया की बहुत जल्द इसका उपाए ढूंढ लिया जायेगा.

उस दिन राजा बहुत परेशान थे उनको नींद नहीं आ रही थी तो वह अपने महल से बहार निकल कर खेत पर गए रात का समय था. और वह एक कुए के पास यह सब बाते सोचने लग गए की कैसे राज्य की जनता को बचाया जाए.

तभी उस कुए के अंदर से एक आवाज आई और कहा की राजा अगर तुम अपने राज्य की भलाई और प्रजा की जान बचाना चाहते है. तो गांव के सभी लोगो को बोलना की सभी घर से एक एक बाल्टी दूध की अमावस्या की रात इस कुए में डाले तब जाकर आपके राज्य से यह  महामारी दूर हो जायेगी और आपके राज्य में कोई नहीं मरेगा.

Inspiring story in hindi

अगले दिन राज्य में एलान कर दिया गया की सभी घर से एक एक बाल्टी दूध की अमावस्या की रात  बहार वाले कुए में सभी डालना  इससे हमारे राज्य में यह बिमारी दूर हो जाएगी  और लोगो की जान बच जाएगी और सभी लोग आज्ञा का पालन जरूर करे.

अमावस्या की रात आई और तभी एक बूढ़ी औरत में मन में एक विचार आया की क्यों नहीं में दूध की बाल्टी की जगह पानी की बाल्टी डाल दू क्यों की पुरे गांव वाले दूध डालने वाले है इतने में और अंधरे में किसको पता चलने वाला है. और वह औरत पानी की बाल्टी ले गई.

जब दिन हुआ तो वैसी ही महामारी फैली हुई थी राज्य में लोग मर रहे थे, तब राजा परेशान हो कर उस कुए के पास गया जवाब लेने के लिए. और वहा  जाकर देखा तो कुआं पूरी तरह से पानी से भरा हुआ था, तब राजा समझ गए की यह सब इसी वजह से हो रहा है किसी ने कुए में दूध डाला ही नहीं सब पानी डाल गए.

दोस्तों जिस तरह से उस बूढ़ी औरत के मन में विचार आया था पानी डालने का ठीक वैसे ही पुरे गांव वाले लोगो के मन में आ गया तब सब ने सोचा की अंधरे में किसको दिखने वाला है. और में नहीं डालूंगा यानी की एक से क्या फर्क पड़ने वाला है सभी तो डालेंगे और इस सोच के साथ किसी ने भी कुऍ में दूध नहीं डाला सब पानी डाल कर आ गए.

Moral this motivational story 

दोस्तों इस inspiring story से यह प्रेरणा मिलती है की हमे अपनी जिम्मेदारी को समझना चाहिए. हम को जीवन इस सोच के साथ नहीं बिताना की में नहीं करूँगा तो मेरी जगह कोई और तो करेगा और सब चुप रहते है.

जिस तरह से मोहले में लाइट चल जाती है तो सभी लोग सोचते है की में क्यों फ़ोन करू लाइनमैन को कोई और दूसरा कर देगा और पुरे मोहले के लोग इसी तरह से सोचते है,और हम सभी अंधरे में बैठे रहते है.

जीवन में जिम्मेदारियों को समझना सीखो तभी असली सफलता मिलती है, यह मत सोचो की कोई और कर देगा आपका काम है आपको ही करना पड़ेगा.

Conclusion 

Best Motivational stories in hindi की यह सभी कहानिया आपकी ज़िन्दगी में बहुत बड़ा परिवर्तन ला सकती अगर आप सभी सभी को अपने जीवन में अप्लाई करते है, और उम्मीद करते है आपको यह best motivational stories in hindi  पसंद आई होगी कमेंट कर के जरूर बताए और अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे.

Related Articles

Leave a Comment